Ultimate magazine theme for WordPress.

Breaking

हेमचंद यादव विश्वविद्यालय ने भिलाई महिला महाविद्यालय में किया ओपन व्यंजन प्रतियोगिता का आयोजन

0 370

व्यंजनों की खुशबू से महक उठा भिलाई महिला महाविद्यालय का कॅम्पस

भिलाई महिला महाविद्यालय की बीएड छात्रा गरिमा चंद्रा ने 30 वर्ष से कम आयु वर्ग में मारी बाजी, 30 वर्ष से अधिक आयु वर्ग में शंकराचार्य महाविद्यालय की नीता शर्मा ने पाया प्रथम स्थान

भिलाई। भिलाई महिला महाविद्यालय में हेमचंद यादव विश्वविद्यालय द्वारा यूनिवर्सिटी लेवल ओपन स्वास्थ्यवर्धक एवं लाभकारी शाकाहारी व्यंजन प्रतियोगिता का आयोजन किया गया। दो वर्गों (30 वर्ष से कम आयु वर्ग तथा 30 वर्ष से अधिक आयु वर्ग) में आयोजित इस ओपन व्यंजन प्रतियोगिता में हेमचंद यादव विश्वविद्यालय के अंतर्गत आने वाले पाँच जिलों के विभिन्न महाविद्यालयों, स्कूलों और स्वयंसेवी संस्थाओं के लगभग 300 से अधिक महिला एवं पुरुष प्रतिभागियों ने उत्साहपूर्वक भाग लिया।

प्रतियोगिता में छत्तीसगढ़ी व्यंजनों के साथ-साथ भारत के विभिन्न प्रांतों के व्यंजनों को बनाकर उसकी अत्यंत आकर्षक ढंग से प्रस्तुति की गयी। कुलपति द्वारा मनोनीत निर्णायकों में भिलाई महिला महाविद्यालय की प्रिन्सिपल डॉ संध्या मदन मोहन तथा डॉ रूपम अजित यादव, शा.वा.वा. पाटनकर की आहार एवं पोषण विशेषज्ञ डॉ अमिता सहगल तथा डॉ मीनाक्षी अग्रवाल शामिल थीं। निर्णायक मण्डल को सहायता प्रदान करने विश्वविद्यालय की ओर से दायित्व डीन स्टूडेंट्स वेल्फेयर डॉ प्रशांत श्रीवास्तव एवं डीसीडीसी डॉ प्रीता लाल तथा एनएसएस समन्वयक डॉ आर पी अग्रवाल एवं सहायक कुलसचिव डॉ सुमित अग्रवाल को सौंपा गया था।

विश्वविद्यालय द्वारा आयोजित कार्यक्रम के मेजबान कॉलेज भिलाई महिला महाविद्यालय की प्रिन्सिपल डॉ संध्या मदन मोहन ने अपने स्वागत भाषण में प्रतिभागियों की उत्साहपूर्वक की गयी भागीदारी की प्रशंसा की और ऐसे आयोजनों को अत्यंत महत्वपूर्ण बताया। उन्होंने कहा कि यह हमारे लिए गौरव का विषय है कि विश्वविद्यालय द्वारा भिलाई महिला महाविद्यालय को विशेष रूप से इस प्रतियोगिता के आयोजन हेतु चुना गया और हमारी आयोजन समिति ने इस आयोजन को सफल बनाने के मिले दायित्व को अपनी पूरी जिम्मेदारी से निभाने का प्रयास किया। मुख्य अतिथि की आसंदी से बोलते हुए हेमचंद यादव विश्वविद्यालय की कुलपति डॉ अरुणा पल्टा ने कहा कि सितंबर का महिना पोषण माह के रूप में मनाया जाता है। इस ओपन व्यंजन स्पर्धा का आयोजन केंद्र एवं राज्य शासन के निर्देशों पर किया गया जिसका मुख्य उद्देश्य लोगों को पोषक आहार के संबंध में जानकारी प्रदान करना व जागरूक करना है। डॉ पल्टा ने कहा कि मूलतः पोषक तत्वों में माइक्रोन्यूट्रीएन्ट अर्थात आयरन मिनरल एवं विटामिन से बने भोजन को ही ध्यान में रखते हुए निर्णय लिए गए हैं। उन्होंने बताया की इस प्रतियोगिता के माध्यम से इस मिथ्या को भी दूर करने का प्रयास किया गया कि खान-पान में महंगी चीजें ही पौष्टिक होती हैं। कार्यक्रम के अंत में कुलपति द्वारा विजेताओं को पुरस्कृत किया गया। सभी प्रतिभागियों को प्रमाण पत्र प्रदान किए गये। इस अवसर पर भिलाई महिला महाविद्यालय के समस्त फैकल्टी मेम्बर्स की उपस्थिति रही।

ओपन व्यंजन प्रतियोगिता के ये रहे विजेता :

30 वर्ष से कम आयु वर्ग :

प्रथम – गरिमा चंद्रा (भिलाई महिला महाविद्यालय, भिलाई), द्वितीय – डॉली सोनछत्रे (घनश्याम सिंह आर्य कन्या महाविद्यालय, दुर्ग), तृतीय – रोज मेरी लकड़ा (सेंट थॉमस महाविद्यालय, भिलाई)। इसके अलावा 17 सांत्वना पुरस्कार

30 वर्ष से अधिक आयु वर्ग :

प्रथम – नीता शर्मा (शंकराचार्य महाविद्यालय, भिलाई), द्वितीय – सुमिता सिंग (सेंट थॉमस महाविद्यालय, भिलाई), तृतीय – श्रीमती सरिता श्रीवास्तव (शा. सीनियर सेकन्डरी स्कूल, धनोरा)। इसके अलावा 8 सांत्वना पुरस्कार

Leave A Reply

Your email address will not be published.