Ultimate magazine theme for WordPress.

Breaking

भिलाई महिला महाविद्यालय में सेक्टर-स्तरीय महाविद्यालयीन महिला बैडमिंटन प्रतियोगिता का हुआ आयोजन

0 180

भिलाई। भिलाई महिला महाविद्यालय की मेजबानी में सेक्टर-स्तरीय महाविद्यालय बैडमिंटन महिला प्रतियोगिता का आयोजन महाविद्यालय के ऑडिटोरीयम-सह-स्पोर्ट्स कॉम्प्लेक्स में किया गया। प्रतियोगिता में 14 महाविद्यालयों की टीमें शामिल हुईं।

प्रतियोगिता का उद्घाटन करते हुए भिलाई महिला महाविद्यालय की प्रिन्सिपल डॉ संध्या मदन मोहन ने अपने उद्बोधन में कहा कि खेल प्रतिस्पर्धा में भाग लेना ही आपकी जीत है। विजेता और उपविजेता तो इनमें श्रेष्ठता के प्रतीक होते हैं। समस्त महाविद्यालयों से आए हुए प्रतिभागियों को उन्होंने अपनी शुभकामनाएं देते हुए स्वस्थ तन और मन से खेल में स्वस्थ प्रतिस्पर्धा की मनोवृत्ति के साथ प्रतियोगिता में भाग लेने कहा।


प्रथम सेमीफाइनल सेठ आर. सी. एस. महाविद्यालय दुर्ग एवं सेंट थॉमस महाविद्यालय रूआबांधा के मध्य खेला गया जिसमें सेंट थॉमस महाविद्यालय रूआबांधा 2-1 से विजयी रहा। दूसरा सेमीफाइनल शास. वा.वा. पाटनकर कन्या महाविद्यालय दुर्ग एवं शास. व्ही. वाय. टी. साइंस कॉलेज दुर्ग के मध्य खेला गया जिसमें शास. व्ही. वाय. टी. साइंस कॉलेज दुर्ग 2-0 से विजयी रही। इसके पश्चात फ़ाइनल मैच सेंट थामस महाविद्यालय रूआबांधा एवं शास. व्ही. वाय. टी. साइंस कॉलेज दुर्ग के मध्य खेला गया जिसमें सेंट थामस महाविद्यालय रुआबांधा 2-0 से विजयी रही।


प्रतियोगिता के अंत में आयोजित समापन समरोह में भिलाई महिला महाविद्यालय की प्रिन्सिपल डॉ संध्या मदन मोहन द्वारा विजेता एवं उप-विजेता टीम को महाविद्यालय की तरफ से शील्ड एवं सर्टिफिकेट प्रदान किया गया तथा बधाई एवं शुभकामनाएं दी गई। प्रतियोगिता के समापन में क्रीड़ा अधिकारी डॉ रितु दुबे, अमरीक सिंह एवं कुलदीप सहित अन्य उपस्थित थे। खिलाड़ियों की हौसला अफजाई के लिए भिलाई महिला महाविद्यालय के एडमिनिस्ट्रेटर आरके शर्मा भी उपस्थित हुए एवं समस्त खिलाड़ियों को शुभकामनाएं दीं

आयोजित कार्यक्रम के अंत में डॉ निधि मोनिका शर्मा स्पोर्ट्स इंचार्ज द्वारा अन्य महाविद्यालयों के स्पोर्ट्स अधिकारियों का महाविद्यालय की तरफ से धन्यवाद ज्ञापित किया गया। महाविद्यालय की स्पोर्ट्स अधिकारी सुश्री प्रतीक्षा कांटे स्पोर्ट्स इंचार्ज डॉ. एम माधुरी देवी, डॉ राजश्री चंद्राकर, डॉ निष्ठा वैद्य, डॉ रीना शुक्ला, अनुराधा का सराहनीय योगदान रहा।

Leave A Reply

Your email address will not be published.