Ultimate magazine theme for WordPress.

Breaking

पीजी कॉलेज ऑफ नर्सिंग के स्टूडेंट्स का इस वर्ष हुआ रिकार्ड जॉब प्लेसमेंट

0 394

कॉलेज के बीएससी नर्सिंग, एमएससी नर्सिंग तथा पोस्ट बेसिक बीएससी नर्सिंग कोर्स के स्टूडेंट्स को सरकारी नौकरियों सहित देश के प्रतिष्ठित हॉस्पिटल्स में मिला जॉब

भिलाई। भिलाई एजुकेशन ट्रस्ट द्वारा जेएलएन हॉस्पिटल एण्ड रिसर्च सेंटर (बीएसपी सेक्टर-9 हॉस्पीटल) के सहयोग से हॉस्पिटल सेक्टर में संचालित देश तथा राज्य के उत्कृष्ट शिक्षण संस्थान पीजी कॉलेज ऑफ नर्सिंग के बीएससी नर्सिंग, एमएससी नर्सिंग तथा पोस्ट बेसिक बीएससी नर्सिंग कोर्स के स्टूडेंट्स ने जॉब प्लेसमेंट में उल्लेखनीय सफलता अर्जित की है।

पीजी कॉलेज ऑफ नर्सिंग के 50 स्टूडेंट्स का चयन राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन, छत्तीसगढ़ द्वारा किए गए छत्तीसगढ़ एनएचएम सीएचओ रीक्रूट्मेंट परीक्षा 2021 के माध्यम से कम्यूनिटी हेल्थ ऑफिसर के रूप में हुआ है। ये सभी स्टूडेंट्स कॉलेज में प्राप्त उत्कृष्ट नर्सिंग प्रशिक्षण का उपयोग करते हुएराज्य के विभिन्न क्षेत्रों में पदस्थ होकर प्रायमरी हेल्थ केयर प्रोवाइडर्स के रूप में अपने सेवाएँ दे रहे हैं। कॉलेज के नर्सिंग कोर्स के 31 स्टूडेंट्स का चयन जेएलएन हॉस्पिटल एण्ड रिसर्च सेंटर (बीएसपी सेक्टर-9 हॉस्पीटल) के विभिन्न विभागों में सेवाएँ प्रदान करने हेतु हुआ वहीं 10 स्टूडेंट्स का जॉब प्लेसमेंट हैदराबाद के प्रतिष्ठित मल्टी-स्पेशलिटी हॉस्पिटल – यशोदा हॉस्पिटल में हुआ है।

पीजी कॉलेज ऑफ नर्सिंग छात्राओं ने एम्स की नर्सिंग ऑफिसर रीक्रूट्मेंट कॉमन एलिजबिलिटी टेस्ट (एनोआरसीइटी)-2021 में भी उल्लेखनीय सफलता दर्ज की तथा कॉलेज की छात्राओं यामिनी, तारिणी, याचना ठाकुर तथा हिमानी साहू का चयन एम्स रायपुर में नर्सिंग ऑफिसर के रूप में हुआ। कॉलेज की ही एक और छात्रा वैशाली अंबलिकर का चयन नई दिल्ली के सफ़दारगंज हॉस्पीटल में नर्सिंग ऑफिसर के रूप में हुआ। इसके अलावा भी कॉलेज के ही अन्य नर्सिंग स्टूडेंट्स ने प्रदेश तथा देश के विभिन्न हॉस्पिटल्स में जॉब हासिल कर सफलता का परचम लहराया है।

भिलाई एजुकेशन ट्रस्ट के मैनेजिंग ट्रस्टी तथा पीजी कॉलेज ऑफ नर्सिंग के चेयरमेन विजय कुमार गुप्ता ने स्टूडेंट्स की सफलता पर हर्ष व्यक्त किया तथा चयनित स्टूडेंट्स को अपनी शुभकामनाएँ देते हुए कहा कि हेल्थ सेक्टर में आए बूम के चलते सरकारी नौकरियों सहित देश-विदेश के प्रतिष्ठित हेल्थ केयर इंस्टीट्यूट्स में नर्सिंग के क्षेत्र में अपार जॉब्स की संभावनाएँ बनी हुई हैं। पीजी कॉलेज ऑफ नर्सिंग के स्टूडेंट्स यहाँ संचालित रोजगारोन्मुखी कोर्सेस के माध्यम से उत्कृष्ट नर्सिंग शिक्षण-प्रशिक्षण प्राप्त कर अपने करिअर निर्माण के क्षेत्र में निरंतर सफलताएँ हासिल कर रहे हैं। पीजी कॉलेज ऑफ नर्सिंग की प्रिन्सिपल प्रो डॉ अभिलेखा बिस्वाल ने चयनित स्टूडेंट्स को बधाई देते हुए इसका श्रेय कॉलेज के अनुभवी तथा समर्पित प्रोफेसर्स की टीम को दिया जो की स्टूडेंट्स को लगातार प्रेरित करने तथा उनकी प्रतिभा को तराश कर समग्र व्यक्तित्व निर्माण में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रही हैं। कॉलेज के समस्त फैकल्टी तथा स्टाफ मेम्बर्स ने भी स्टूडेंट्स की इस सफलता पर हर्ष व्यक्त करते हुए उनके उज्ज्वल भविष्य की कामना की है।

गौरतलब है की यदि जॉब प्लेसमेंट के लिहाज से देखा जाये तो विगत वर्षों में रोजगारोन्मुखी बीएससी नर्सिंग, एमएससी नर्सिंग तथा पोस्ट बेसिक बीएससी नर्सिंग कोर्स का शिक्षण-प्रशिक्षण प्राप्त कर पीजी कॉलेज ऑफ नर्सिंग के स्टूडेंट इन-कैम्पस तथा आउट-कैम्पस प्लैसमेंट्स के माध्यम से चयनित होकर स्टेट-लेवल पर एम्स-रायपुर, जेएलएन हॉस्पीटल एंड रिसर्च सेंटर, बीएसपी सेक्टर 9 हॉस्पीटल-भिलाई, मेकाहारा-रायपुर सहित विभिन्न शासकीय अस्पतालों वहीं नेशनल-लेवल पर मेदांता-गुड़गाँव, फोर्टिस व एस्कॉर्ट्स हॉस्पीटल-नई दिल्ली, बिरला हॉस्पीटल-कोलकाता, कोकिलबेन धीरुभाई अंबानी तथा बॉम्बे हॉस्पीटल-मुंबई, हैदराबाद स्थित अपोलो तथा मैक्स हॉस्पिटल्स, केआईआईएमएस-केरल, सेंट जोंस हॉस्पीटल बैंगलुरु सहित बीएमआरसी-भोपाल तथा भारत के विभिन्न राज्यों में संचालित रेल्वे हॉस्पिटल्स, ईएसआईसी हॉस्पिटल्स आदि में अपनी सेवाएँ दे रहे हैं। इंटरनेशनल-लेवल पर भी यहाँ की छात्राएँ सिंगापुर, इंग्लैंड, अमेरिका, ऑस्ट्रेलिया, आयरलैंड, कनाडा तथा यूएई जैसे देशों के नामी हॉस्पिटल्स में जॉब हासिल कर अपनी प्रतिभा का परिचय दे रही हैं।

विदित हो की पीजी कॉलेज ऑफ नर्सिंग वर्ष 1986 से संचालित किया जा रहा है तथा यहाँ की चार प्रोफेसर्स को नर्सिंग शिक्षण के सर्वोच्च सम्मान फ्लोरेंस नाइटेंगल अवॉर्ड से राष्ट्रपति द्वारा सम्मानित किया जा चुका है। यहाँ के स्टूडेंट्स अपने उत्कृष्ट ऐकडेमिक प्रदर्शन से विश्वविद्यालयीन मेरिट सूची में भी स्थान पाते रहे हैं।

Leave A Reply

Your email address will not be published.