Ultimate magazine theme for WordPress.

Breaking

नीट 2021 : इस साल कितना कैसा रहा नीट का प्रश्नपत्र ?

0 129

जानिए जानकार क्या कह रहे ?

नई दिल्ली। काफी देरी और नीट परीक्षा स्थगित करने की कई मांगों के बीच राष्ट्रीय मेडिकल प्रवेश परीक्षा राष्ट्रीय पात्रता सह प्रवेश परीक्षा (नीट) 2021 आज समाप्त हो गई। रिपोर्ट्स के अनुसार, इस साल 16 लाख से ज्यादा अभ्यर्थियों ने मेडिकल कॉलेजों में अपनी सीट पक्की करने के लिए नीट की परीक्षा दी। मेडिकल एजुकेशन पर सरकारी आंकड़ों के अनुसार, देश में एमबीबीएस की कुल 84000 सीटें हैं। 

आज रविवार 12 सितंबर 2021 को शाम पांच बजे जैसे ही पेपर खत्म हुआ वैसे ही विशेषज्ञों ने बताया कि इस साल का पेपर कठिन था क्योंकि पेपर पैटर्न और प्रश्न काफी उलझाऊ थे। 

पहले से किए गए ऐलान के अनुसार, पहली बार इस साल पेपर में इंटरनल च्वॉइसेस दिए गए थे। इसके साथ ही इस साल नीट के पेपर में कॉलम मैचिंग एक नई  चीज थी बाकी रीजनिंग के पेपर पिछले साल की ऐम्स प्रवेश परीक्षा के तरह ही थे। विशेषज्ञोंऔर छात्रों की राय के अनुसार, कैमिस्ट्री वाले भाग में सभी चैप्टरों से सवाल पूछे गए थे। इस भाग में थ्योरी की बजाए न्यूमेरिकल प्रश्न ज्यादा थे। फिजिक्स के सेक्शन में न्यूमेरिकल प्रश्न बहुत ही लेंदी थे। विषय विशेषज्ञों के अनुसार, पिछली साल की तुलना में इस साल का पेपर कठिन था। जानकारों के अनुसार, कई प्रश्न ऐसे थे जिन्हें हल करने के लिए एक मिनट से ज्यादा के समय की जरूरत थी। जबकि छात्रों ने एक प्रश्न के लिए एक मिनट का समय लगने की उम्मीद कर रहे थे। छात्रों ने बताया कि मैच द कॉलम प्रश्न में एक प्रश्न का दो हल समान थे। ऐसे में छात्रों ने एक प्रश्न के उत्तर में दो जवाबों पर टिक किया वहीं जूलॉजी के पेपर की बात करें तो यह भी पिछले साल से ज्यादा कठिन था। पेपर में दिए गए प्रश्न काफी लंबे व उलझाऊ थे जिसकी वजह से जिस छात्र सभी कंसेप्ट क्लीयर हों उसे ही पेपर आसान लगा होगा।

छात्रों व विशेषज्ञों की मानें तो इस साल कट ऑफ कुछ नीचे जा सकता है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.