Ultimate magazine theme for WordPress.

Breaking

भिलाई महिला महाविद्यालय की बीएड प्रशिक्षु छात्राओं द्वारा समर्पण के बैनर तले बस्तियों के बच्चों को किया जा रहा विद्या दान

0 473

विगत 10 वर्षों से भिलाई महिला महाविद्यालय के बीएड प्रशिक्षणार्थी “समर्पण” के अंतर्गत विभिन्न बस्तियों के अक्षम वर्ग के बच्चों में जला रहीं शिक्षा का अलख….जरूरतमंद बच्चों को आवश्यक अध्ययन सामग्री भी करा रहे उपलब्ध

भिलाई। भिलाई एजुकेशन ट्रस्ट द्वारा हॉस्पीटल सेक्टर में संचालित भिलाई महिला महाविद्यालय के बीएड प्रशिक्षणार्थियों द्वारा सामाजिक सरोकार को ध्यान में रखते हुए बनाये गए ग्रुप “समर्पण” के बैनर तले विगत एक दशक से निरंतर निःशुल्क शिक्षा प्रदान की जा रही है। इस प्रयास की निरन्तरता को बनाए रखने हेतु महाविद्यालय की प्रत्येक वर्ष आनेवाली बीएड छात्राओं की नवीन बैच स्वतः अपने पास आउट हो रही सीनियर छात्राओं की बैच से इस जिम्मेदारी को लेकर आगे बढ़ाने का कार्य कर रही है।

भिलाई महिला महाविद्यालय की प्रिन्सिपल डॉ संध्या मदन मोहन ने बीएड प्रशिक्षणार्थियों की इस सेवा भावना को अनुकरणीय बताया और कहा कि प्रारंभ में बीएड की छात्राओं को उपरोक्त सामाजिक कार्य में कई कठिनाइयों से गुजरना पड़ा इसके बावजूद बीएड छात्राओं ने अपनी लगन और उत्साह से इन सामाजिक गतिविधियों में सक्रियता से भाग लेते हुए अपना योगदान जारी रखा जो की सराहनीय है। उन्होंने बताया कि बीएड छात्राएँ यह कार्य अपने पाठ्यक्रम के अलावा तथा महाविद्यालय की कक्षाओं के पश्चात अतिरिक्त समय देकर कर रहीं हैं। भविष्य में यह कार्य तथा अनुभव उनके करिअर निर्माण में भी अत्यंत उपयोगी होगा। विद्या दान का उपरोक्त सामाजिक कार्य शिक्षा विभाग की विभागाध्यक्ष डॉ मोहना सुशांत पंडित के नेतृत्व में किया जा रहा है। डॉ मोहना सुशांत पंडित ने बताया कि विद्या का दान सर्वश्रेष्ठ दान होता है। इस सामाजिक कार्य से बस्तियों के बच्चों का शिक्षा के प्रति उत्साहवर्धन होता है तथा निःशुल्क गुणवत्ता पूर्ण शिक्षा तथा आवश्यक अध्ययन सामग्री उन्हें आगे पढ़ने हेतु प्रेरित करती है वहीं विद्या दान से जुड़े छात्राध्यापकों में विद्यार्थियों के प्रति संवेदनशीलता, सामाजिक जिम्मेदारी, नेतृत्व तथा विभिन्न वर्गों के विद्यार्थियों के प्रति समानता का दृष्टिकोण जैसे गुणों का नैसर्गिक रूप से विकास होता है और इस प्रकार एक समग्र व्यक्तित्व निर्माण होने से ये भविष्य के लिए ये एक आदर्श शिक्षक साबित होते हैं।

इस वर्ष भिलाई महिला महाविद्यालय के बीएड कोर्स के प्रशिक्षणार्थी छात्राध्यापक के रूप में भिलाई क्षेत्र में श्रमिक बस्ती बापूनगर खुर्सीपार जोन-2, खुर्सीपार जोन-3 , सुभाष चौक सुपेला, शास्त्री नगर, आदर्श नगर कैम्प 1, गैरेज रोड से. 7, सेक्टर 7 बस्ती, सृष्टि नगर-सुपेला, हुडको सेक्टर, जंजगिरी तथा दुर्ग क्षेत्र में रायपुर नाका, एसएएफ लाईन कातुलबोड, केलाबाड़ी आदि स्थानों में बस्ती के बच्चों तथा आर्थिक रूप से अक्षम विद्यार्थियों के मध्य अपनी सेवा से शिक्षा की अलख जगाने का कार्य कर रही हैं।

इन छात्राध्यापकों द्वारा बच्चों को मैथ्स, इंग्लिश, साइंस, सोशल साइंस, हिन्दी, पर्यावरण की शिक्षा दी जा रही है वहीं जनरल नॉलेज तथा क्राफ्ट व ड्रॉइंग-पेंटिंग, डांस, खेल आदि विधाओं को भी सिखाया जा रहा है।

गौरतलब है कि महाविद्यालय के बीएड छात्राओं का समूह समर्पण विगत 10 वर्षों से सामाजिक सरोकार से जुड़े विभिन्न विषयों पर कार्य कर रहा है। जिसमें बस्तियों में नि:शुल्क विद्या दान के अतिरिक्त भिलाई-दुर्ग क्षेत्र के वृद्धाश्रमों, अनाथ आश्रमों, स्पेशल स्कूल्स की विज़िट कर वहाँ की आवश्यकताओं की पूर्ति का प्रयास करना, विभिन्न ज्वलंत स्वास्थ्य एवं सामाजिक मुद्दों पर बस्तियों में जागरूकता फैलाना आदि सामाजिक गतिविधियां भी शामिल हैं।

समर्पण की गतिविधियों को व्यवस्थित रूप से संचालित करने में महाविद्यालय की शिक्षा विभाग की अन्य सहा. प्राध्यापकों हेमलता सिदार, भावना, आशा आर्या, काकोली सिंघा, सत्यम मिश्रा व श्वेता पुरी का सहयोग तथा कार्यक्रम समन्वयक नाजनीन बेग का उल्लेखनीय योगदान रहता है।

समर्पण के इस विद्या दान अभियान में भिलाई महिला महाविद्यालय के बीएड की छात्रायें ज्योति उइके, दीपाली ध्रुवे, रीना पड़ोती, दीपशिखा, भोजेश्वरी, नीतूश्री, प्रियंका बगमरिया, सुनीता मानिकपुरी, शिवांगी तिवारी, प्रिंसी प्रजापति, सुधा, नेहा चेलक, अमीषा शर्मा, वैशाली साहू, पूर्णिमा, दामिनी, कुमुदनी, रितिका, दुर्गेश्वरी, तृप्ति, धारणा, संध्या, विधि, संध्या बंजारे, शीतल, दीपिका, श्वेता बंजारे, प्रभा कुमारी साव, रश्मि देवांगन, सना कुरैशी, रेशमा सरकार, रेणुका, ए कुमारी, अंबालिका, भानुप्रिया, दिव्या मंडावी, कंचन ठाकुर, शुभांगी, शफकत, श्रद्धा तिवारी आदि प्रमुख रूप से विद्या दान कर रहे हैं।

छात्राओं के उत्साह व सहभागिता को देखते हुए भविष्य में समर्पण की गतिविधियों का और अधिक विस्तार किया जायेगा।

Leave A Reply

Your email address will not be published.