Ultimate magazine theme for WordPress.

Breaking

भिलाई महिला महाविद्यालय द्वारा गोदग्राम पीसेगांव में पोषण माह के अंतर्गत विभिन्न गतिविधियों का संचालन

0 284

“सही पोषण, देश रोशन, नहीं रहे कुपोषण” लक्ष्य की प्राप्ति हेतु किया गया आयोजन

महिला स्वास्थ्य एवं बच्चों का पोषण विषय पर जागरूकता था कार्यक्रम का मुख्य उद्देश्य

भिलाई। केंद्र शासन एवं राज्य शासन से प्राप्त आदेश के परिपालन में हेमचंद विश्वविद्यालय की कुलपति डॉ अरुणा पल्टा की प्रेरणा एवं दिशा निर्देश तथा भिलाई महिला महाविद्यालय की प्रिन्सिपल डॉ संध्या मदन मोहन के मार्गदर्शन में भिलाई महिला महाविद्यालय द्वारा पोषण माह के अंतर्गत विभिन्न गतिविधियों का आयोजन किया गया। इस वर्ष की निर्धारित थीम “ग्रामसभा के माध्यम से पोषण जागरूकता” पर आधारित यह कार्यक्रम भिलाई महिला महाविद्यालय की राष्ट्रीय सेवा योजना इकाई के गोदग्राम पीसेगांव में आयोजित किया गया।

आयोजित कार्यक्रम में भिलाई महिला महाविद्यालय की प्रिन्सिपल डॉ. संध्या मदन मोहन ने पोषण संबंधी महत्वपूर्ण एवं प्रासंगिक जानकारियां बच्चों और माताओं को प्रदान की। क्या खाएं, कितना खाएं, कौनसी पोषण युक्त सब्जियां एवं फल अपनी बाड़ी में लगाएं तथा उनका सेवन करें, कीटनाशक के हानिकारक प्रभाव से सब्जी एवं फलों को कैसे मुक्त करें आदि विस्तृत एवं बहुमूल्य जानकारी एवं भोजन पोषण संबंधी मिथ्या धारणाओं को वैज्ञानिक आधार पर ज्ञान अर्जित करने पर जोर दिया। इसके पश्चात सातवीं एवं आठवीं के छात्र छात्राओं हेतु पोषण संबंधी प्रश्नोत्तरी कार्यक्रम भी डॉ संध्या मदन मोहन द्वारा किया गया। लगभग 90 बच्चों ने पूर्ण उत्साह से इस कार्यक्रम में अपनी भागीदारी दी। इस कड़ी में 20 प्रश्न पूछे गए और सही उत्तर देने पर बच्चों को पुरस्कृत भी किया गया।

कार्यक्रम में शास. माध्यमिक स्कूल पीसेगांव के हेड मास्टर शंकर लाल जी ठाकुर, हेड मास्टर प्राइमरी स्कूल दिनेश तिवारी, श्रीधर दीवान (उच्च श्रेणी शिक्षक), श्वेता दुबे (कार्यक्रम संयोजक) वरिष्ठ शिक्षिका धनेश्वरी चंद्राकर, श्रुति शर्मा, सरोज एवं पाठशाला के सभी शिक्षक गणों के साथ ही सरपंच श्रीमती गुलाब बाई बांधे, आंगनवाड़ी कार्यकर्तागण श्रीमती पूर्णिमा यादव, श्रीमती उमा देशमुख, श्रीमती यामिनी साहू, श्रीमती प्रभा देवांगन, सचिव श्रीमती रश्मि राजपूत, उमेश देशमुख, मितानिन एवं ग्राम सभा के अन्य महिला सदस्याएँ उपस्थित थीं।

कार्यक्रम का संचालन भिलाई महिला महाविद्यालय की सहा. प्राध्यापिका डॉ. रूपम अजीत यादव ने किया। उन्होंने बच्चों को पोषण संबंधी आधारभूत जानकारी देकर उन्हें अच्छे पोषण और उत्तम स्वास्थ्य का महत्व समझाया। सहा. प्राध्यापिका डॉ राजश्री चंद्राकर ने बहुत ही रोचक तरीके से स्थानीय भाषा छत्तीसगढ़ी में पोषण संबंधी जानकारी प्रदान की। सहा. प्राध्यापिका डॉ. सरिता जोशी ने भी महत्वपूर्ण व्याख्यान दिया।

इस अवसर पर आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं द्वारा व्यंजन प्रतियोगिता के अंतर्गत विभिन्न पोषक व्यंजनों का प्रदर्शन किया गया, जिसका निर्णय डॉ. संध्या मदन मोहन, डॉ. रूपम अजीत यादव, डॉ. राजश्री चंद्राकर, डॉ. सरिता जोशी तथा सरपंच द्वारा किया गया।

ये रहे आयोजित प्रतियोगिताओं के विजेता :

व्यंजन प्रतियोगिता में प्रथम- श्रीमती मोगरा डेहरे (मालपुआ), द्वितीय – श्रीमती लता देशमुख (डोनट), तृतीय – श्रीमती अहिल्या देशमुख (पोषक लडडू), सांत्वना पुरस्कार – श्रीमती उमा देशमुख (बर्फी) व श्रीमती पुष्पा यादव (अनरसा)। बच्चों हेतु पोषण विषय पर आयोजित निबंध प्रतियोगिता में प्रथम – कपिल निषाद (कक्षा 7), द्वितीय -सोनल वर्मा (कक्षा 8) एवं तृतीय -डॉली (कक्षा 7)। चित्रकला प्रतियोगिता के परिणामों में प्रथम- लक्ष्मी (कक्षा 8), द्वितीय-लता (कक्षा 8) व तृतीय-हर्षिता (कक्षा 6) रही। इसके अलावा कंचन और लक्ष्मी को भी पुरस्कृत किया गया।
इस अवसर पर छात्र-छात्राओं को पोषक चिक्की एवं विटामिन C से भरपूर नींबू के महत्व को बताते हुए उनके मध्य उपरोक्त सामग्री का वितरण भी किया गया।

कार्यक्रम के सफल आयोजन में भिलाई महिला महाविद्यालय के होम साइंस विभाग की विभागाध्यक्ष डॉ. सुनीता जी. राव एवं विभाग की सभी सहा. प्राध्यापिकाओं का विशेष योगदान रहा। कार्यक्रम के अंत में धन्यवाद ज्ञापन डॉ. राजश्री चंद्राकर द्वारा किया गया।

Leave A Reply

Your email address will not be published.