Ultimate magazine theme for WordPress.

Breaking

पीएम मोदी ने यूएनजीए को किया संबोधित…लोकतंत्र की दिखाई ताकत…वैक्सीन पर दुनिया को खुशखबरी और आतंक पर प्रहार

0 174

यूएनजीए में पीएम मोदी के भाषण की बड़ी बातें

नई दिल्ली (एजेंसी)। न्यूयॉर्क में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने संयुक्त राष्ट्र महासभा को संबोधित किया। पीएम मोदी के यूएन महासभा में पहुंचने से पहले महासभा के बाहर कई सारे लोग उनके दीदार के लिए बेकरार नजर आए। यूएन महासभा में पहुंचने के बाद उनके संबोधन से पहले महासभा के सदस्यों ने पीएम का स्वागत किया। जिसके लिए पीएम मोदी ने उनका शुक्रिया अदा किया। प्रधानमंत्री मोदी ने अपने भाषण की शुरुआत में ही कोरोना महामारी का जिक्र किया। पीएम मोदी ने कोरोना की वजह से जान गंवाने वालों को श्रद्धांजलि दी।

भारत के लोकतंत्र का जननी बता पीएम मोदी ने कहा कि हम इसी साल 15 अगस्त को आजादी के 75वें साल में प्रवेश कर गये हैं। उन्होंने साफ किया कि हमारी विविधता हमारे मजबूत लोकतंत्र की पहचान है। पीएम ने अपने संबोधन के दौरान लोकतंत्र की ताकत का बखान करते हुए कहा, ‘विविधता हमारे लोकतंत्र की पहचान है। भारत लोकतंत्र की जननी है, मैं इसका प्रतिनिधित्व कर रहा हूं।’

वैक्सीन बनाने वाली कंपनियों को आमंत्रण

इस सबसे अहम मंच पर जानलेवा कोरोना वायरस का जिक्र करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि भारत का वैक्सीन डिलीवरी प्लेटफॉर्म CoWIN एक ही दिन में करोड़ों वैक्सीन डोज लगाने के लिए डिजिटल सहायता दे रहा है। पीएम ने आगे कहा कि, ‘मैं UNGA को ये जानकारी देना चाहता हूं कि भारत ने दुनिया की पहली DNA वैक्सीन विकसित कर ली है जिसे 12 साल से ज्यादा उम्र के सभी लोगों को लगाया जा सकता है। भारत के वैज्ञानिक एक नेजल वैक्सीन के निर्माण में भी लगे हैं। मानवता के प्रति अपने दायित्व को समझते हुए भारत ने एक बार फिर दुनिया के जरूरतमंदों को वैक्सीन देनी शुरू कर दी है। मैं आज दुनिया भर के वैक्सीन मैन्युफैक्चरर को भी आमंत्रित करता हूं कि आइए और भारत में वैक्सीन बनाइए।’

आत्मनिर्भर भारत अभियान का जिक्र

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आगे कहा, ‘कोरोना महामारी ने दुनिया को सिखाया है कि वैश्विक अर्थव्यवस्था को और विविधतापूर्ण बनाया जाए, इसलिए वैश्विक मूल्य श्रृंखलाओं का विस्तार बहुत महत्वपूर्ण है।’ हमारा ‘आत्मनिर्भर भारत अभियान’ इसी भावना से प्रेरित है. स्वतंत्रता के 75 वर्ष के अवसर पर भारत भारतीय छात्रों द्वारा बनाए गए 75 उपग्रहों को अंतरिक्ष में लॉन्च करने जा रहा है।’

अनुभव आधारित पढ़ाई पर जोर

साइंस बेस्ड अप्रोच को मजबूत करने के लिए भारत, अनुभव पर आधारित पढ़ाई को बढ़ावा दे रहा है। हमारे यहां, स्कूलों में हजारों अटल टिंकरिंग लैब्स खोली गई हैं, इंक्यूब्येटर्स बने हैं और एक मजबूत स्टार्ट-अप इकोसिस्टम विकसित हुआ है। अपनी आजादी के 75वें वर्ष के उपल्क्ष्य में, भारत 75 ऐसे सैटेलाइट्स को अंतरिक्ष में भेजने वाला है, जो भारतीय विद्यार्थी, स्कूल-कॉलेजों में बना रहे हैं।

समुद्री सीमा का दुरुपयोग ना हो

पीएम मोदी ने कहा, ‘हमारे समुद्र भी हमारी साझी विरासत है इसलिए हमें ये ध्यान रखना होगा कि ओसियन रिसोर्सेज को हम यूज करें अब्यूज नहीं। हमारे समुद्र अंतरराष्ट्रीय व्यापार की लाइफलाइन भी हैं। इन्हें हमें एक्सपैंशन और एक्सक्लूजन की दौड़ से बचाकर रखना होगा।’ आज विश्व के सामने प्रतिगामी सोच और चरमपंथी का खतरा बढ़ता जा रहा है। इन परिस्थितियों में, पूरे विश्व को विज्ञान आधारित, तर्कसंगत और प्रगतिशील सोच को विकास का आधार बनाना ही होगा।

आतंकवाद पर करारा प्रहार

पीएम मोदी ने अपने संबोधन के दौरान कहा कि जो देश आतंकवाद का पॉलीटिकल टूल के रूप में इस्तेमाल कर रहे हैं उन्हें समझना होगा कि आतंकवाद उनके लिए भी खतरनाक है। अफगानिस्तान को लेकर सुनिश्चित करना होगा कि अफगान की धरती का इस्तेमाल आतंकवाद फैलाने के लिए ना हो। इस वक्त अफगानिस्तान की महिलाओं और बच्चों को मदद की जरुरतत है। हमें अपना दायित्व निभाना ही होगा। अफगानिस्तान में अल्पसंख्यकों की सुरक्षा जरुरी है। पीएम ने पाकिस्तान का नाम लिए बैगर पड़ोसी मुल्क को इस मंच से जमकर लताड़ा। 

UN को जरुरी सलाह

इसके साथ ही उन्होंने कहा, संयुक्त राष्ट्र को स्वयं को प्रासंगिक बनाए रखना है तो उसे अपनी इफेक्टिवनेस को सुधारना होगा, रिलायबिलिटी को बढ़ाना होगा। UN पर आज कई तरह के सवाल खड़े हो रहे हैं।

 

Leave A Reply

Your email address will not be published.