Ultimate magazine theme for WordPress.

Breaking

भिलाई महिला महाविद्यालय में नेशनल लेवल वेबीनार सम्पन्न

0 150

महाविद्यालय के कॉमर्स डिपार्टमेन्ट द्वारा एएमएफआई के संयुक्त तत्वावधान में हुआ आयोजन

भिलाई। भिलाई एजुकेशन ट्रस्ट द्वारा हॉस्पीटल सेक्टर में संचालित भिलाई महिला महाविद्यालय के कॉमर्स डिपार्टमेन्ट द्वारा एएमएफआई के संयुक्त तत्वावधान में राष्ट्रीय वेबीनार का सफलतापूर्वक आयोजन किया गया। कार्यक्रम के प्रमुख वक्ता नई दिल्ली से सीनियर कंसलटेंट (पूर्व डीजीएम) सेबी थे। उन्होंने प्रतिभागियों को संबोधित करते हुए यह बताया कि वर्तमान में रोजगार एवं नियोक्ता के मध्य के गैप को समझकर उसे उचित मार्गदर्शन के माध्यम से हम कैसे दूर कर सकते हैं। उन्होंने कहा कि सिक्योरिटी मार्केट में रोजगार के लिए वर्तमान समय में कौन-कौन से विकल्प मौजूद हैं एवं उन्हें समझने व इन्हें कैरियर में विकल्प के रूप में कैसे चुन सकते हैं । उन्होंने बचत के सही उपयोग एवं विनियोग की आवश्यकता के विभिन्न चरणों की बड़े ही व्यावहारिक रूप से समझाया। उन्होंने हमारे संपूर्ण जीवन में विनियोग कहां कितना फायदेमंद हो सकता है इस बात की भी जानकारी बड़े ही रोचक ढंग से प्रतिभागियों के समक्ष रखी ।

इससे पूर्व महाविद्यालय की प्राचार्या डॉ संध्या मदन मोहन ने अपने स्वागत भाषण में बताया कि बताया कि हमारी बचत की स्थिर वित्तीय योजना अवश्य होनी चाहिए एवं मुद्रा की बचत कर एवं उन्हें पुनः बचत कर उनका विनियोग कर आर्थिक रूप से सक्षम हुआ जा सकता है ।

डॉ एम माधुरी ने राष्ट्रीय वेबीनार के उद्घाटन अवसर पर आयोजन के उद्देश्य की बताते हुए वर्तमान परिप्रेक्ष्य में विषय के महत्व को प्रतिभागियों के समक्ष रखा। कार्यक्रम की संयोजिका डॉ भारती वर्मा विभागाध्यक्ष वाणिज्य ने मुख्य वक्ता सूर्यकांत शर्मा का संक्षिप्त परिचय देते हुए उनका स्वागत किया एवं बताया कि कैरियर के अवसरों में सिक्योरिटी मार्केट में भी अनेक विकल्प मौजूद हैं जिनका हम अपने करियर निर्माण में उपयोग कर सकते हैं।

इस राष्ट्रीय वेबीनार में कुल 11 सौ से भी अधिक प्रतिभागियों ने रजिस्ट्रेशन कराया जिसमें विभिन्न राज्यों के प्राध्यापक शिक्षक छात्र-छात्राएं एवं अकादमिक व्यक्तियों ने भी भाग लिया। फीडबैक सेशन में प्रतिभागियों के प्रश्नों का भी प्रमुख वक्ता द्वारा समाधान किया गया।

कार्यक्रम के आयोजन में डिपार्टमेन्ट की सहा. प्राध्यापिकाओं डॉ. राजश्री शर्मा, डॉ निधि मोनिका शर्मा, डॉ अल्पना शर्मा सहित सभी का सराहनीय योगदान रहा। महाविद्यालय की अन्य प्राध्यापिकाओं ने भी इस राष्ट्रीय वेबीनार में सहभागी होकर कार्यक्रम का लाभ लिया।

Leave A Reply

Your email address will not be published.