Ultimate magazine theme for WordPress.

Breaking

भिलाई महिला महाविद्यालय में ‘एक-तारीख एक-घंटा’ कार्यक्रम के माध्यम से एक-जुट होकर बापू को दी गयी ‘स्वच्छांजलि’

0 259

कार्यक्रम हेतु आमंत्रित अतिथियों, छात्राओं, शैक्षणिक तथा अशैक्षणिक स्टाफ ने एकत्रित होकर स्वच्छता अभियान में की शिरकत

भिलाई। भारत सरकार आवासन एवं शहरी कार्य मंत्रालय द्वारा आयोजित एवं हेमचंद यादव दुर्ग विश्वविद्यालय द्वारा निर्धारित एक-तारीख एक-घंटा “स्वच्छता ही सेवा है” अभियान के तहत् भिलाई एजुकेशन ट्रस्ट द्वारा संचालित भिलाई महिला महाविद्यालय में कार्यक्रम एक-तारीख एक-घंटा बहुत ही उत्साह एवं प्रफुल्लित माहौल में एक साथ आयोजित किया गया।

यह कार्यक्रम राष्ट्रपिता महात्मा गांधी जी की जन्म शताब्दी के अवसर पर केंद्र शासन के आव्हान पर स्वच्छता एवं इससे जुड़े शारीरिक श्रम की गरिमा की स्थापना के लिए आयोजित किया गया ।

इस अवसर पर छात्राओं के प्रोत्साहन और हौसला अफजाई के लिए ख्यातिलब्ध समाज के प्रतिष्ठित अतिथियों ने अपनी उपस्थिति से किया ।

इस अवसर पर पूर्व प्राचार्य शास. महाविद्यालय डॉ महेश चंद्र शर्मा, पूर्व वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारी लोक निर्माण विभाग मदन मोहन श्रीवास्तव, जनप्रतिनिधि भिलाई नगर निगम वार्ड 68 की पार्षद श्रीमती भगवती शर्मा एवं मीडिया एवं जनसम्पर्क क्षेत्र से जनसम्पर्क अधिकारी सुशांत पंडित एवं महाविद्यालय की प्राचार्या डॉ संध्या मदन मोहन की प्रेरणादायी उपस्थिति में महाविद्यालय की छात्राओं, एनएसएस के स्वयंसेवकों, शैक्षणिक एवम अशैक्षणिक स्टाफ की उपस्थिति में वृहद स्तर पर स्वच्छता अभियान आयोजित किया गया। इस अभियान के तहत् पं. जवाहर लाल नेहरू चिकित्सा एवं अनुसंधान केंद्र, भिलाई से. 9 चौक से 32 बंगला चौक तक सबने मिलकर उपस्थित जनसमूह के साथ स्वच्छता हेतु श्रमदान किया ।

इस मार्ग से गुजरने वाले यात्रियों और जनसमूह ने भी इस स्वच्छता अभियान से स्व-प्रेरणा प्राप्त कर स्वस्फूर्त रूप से इसमें शामिल होकर अपनी सेवाएँ दीं।

इससे पूर्व अभियान के औपचारिक उद्घाटन समारोह में भिलाई महिला महाविद्यालय की प्राचार्या डॉ संध्या मदन मोहन ने विभिन्न क्षेत्रों से उपस्थित अतिथियों का स्वागत करते हुए अपने सम्बोधन में कार्यक्रम के उद्देश्य को स्पष्ट करते हुए स्वच्छता को आज की महती आवश्यकता बताया उन्होंने युवा पीढ़ी में इसकी जागरूकता को अत्यंत महत्वपूर्ण बताते हुए कहा इससे आने वाली पीढ़ी को एक संदेश जायेगा। उन्होंने कहा कि स्वच्छता किसी एक की नहीं वरन् सामूहिक जिम्मेदारी है।

डॉ महेश चंद्र शर्मा ने अपने उद्बोधन में कहा कि मानव जीवन मूल्यों में एक मूल्य स्वच्छ रहना भी शामिल हैं। स्वच्छता भारतीय संस्कृति का प्रतीक है। भारतीय दर्शन में शरीर आत्मा, मन, बुद्धि तथा पर्यावरण का शुद्ध रखना मानव जीवन का महत्वपूर्ण कार्य बताया गया है।

डॉ शर्मा ने कहा कि भारत सरकार ने स्वच्छता की आवश्यकता को समझते हुए स्वच्छ भारत नामक अभियान को भी चलाया जिसकी शुरुआत 2 अक्टूबर 2014 को गांधी जयंती के मौके पर की गई। पर कोई भी अभियान केवल सरकार मात्र नहीं चला सकती, आवश्यकता है वहां के नागरिकों में जागरुकता फैलाने की और आज हम सब इसी कार्य के लिए एकत्रित हुए हैं।

कार्यक्रम में उपस्थित पूर्व वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारी मदन मोहन श्रीवास्तव ने कहा कि श्रेष्ठ भारत की परिकल्पना स्वच्छ भारत से ही संभव है। हम सब को मिल-जुलकर इस क्षेत्र में प्रयास करना होगा तथा अपने आस-पास के वातावरण को स्वच्छ रखना हमारा नैतिक कर्तव्य होना चाहिए।

“एक-तारीख एक-घंटा कार्यक्रम” का आयोजन महाविद्यालय की प्राचार्या डॉ संध्या मदन मोहन के कुशल नेतृत्व में सम्पन्न हुआ। कार्यक्रम के सफल आयोजन में आईक्यूएसी की समन्वयक डॉ सुनीता जी राव, छात्रसंघ प्रभारी डॉ निशा शुक्ला, राष्ट्रीय सेवा योजना प्रभारी द्वय डॉ राजश्री शर्मा एवं डॉ अनुपमा श्रीवास्तव की महत्वपूर्ण सहभागिता एवं समन्वयन में आयोजित हुआ। इस अवसर पर राष्ट्रीय सेवा योजना (एनएसएस) के स्वयंसेवक भारी संख्या में उपस्थित थे।

कार्यक्रम में महाविद्यालय के विभिन्न विभागों के विभागाध्यक्ष डॉ मधुलिका श्रीवास्तव, प्रतिभा क्लाडियस , डॉ आशा रानी दास, डॉ भारती वर्मा, डॉ प्रतीक्षा पांडे, डॉ भावना पांडे, सलमा मो. शफ़ी, डॉ निधि तिवारी आदि की उपस्थिति रही। हॉस्टल वॉर्डन डॉ निधि मोनिका शर्मा भी हॉस्टल की छात्राओं सहित उपस्थित रहीं। कार्यक्रम को सफल बनाने में महाविद्यालय के समस्त विभागों की सहा. प्राध्यापिकाओं तथा अशैक्षणिक स्टाफ का उल्लेखनीय योगदान रहा।

Leave A Reply

Your email address will not be published.